Karl Benz – पहले automobile vehicle के inventor

Karl Benz – पहले automobile vehicle के inventor:

karl benz inventor of first automobile

आज जब हम सड़क पर निकलते हैं तो हमें तरह-तरह के motorized automobile सड़क पर दौड़ते नज़र आते हैं। एक से बढ़कर एक passenger and goods vehicle विभिन्न companies design करके मार्किट में लांच करती रहती है। जिनसे बहुत आरामदायक सफ़र किया जा सकता है, कोई भी सामान एक जगह से दूसरी जगह बहुत आराम से पहुँच जाता है। लेकिन क्या आपको पता है सबसे पहली कार किसने बनाई थी? सबसे पहला automobile vehicle सड़क पर कब दौड़ा था ? सबसे पहली गाड़ी कैसी दिखती थी ?

तो चलिए जानते हैं इन्ही सब सवालों के जवाब –

Karl Benz – कार्ल बेंज ही वो नाम है जिसने सबसे पहली गाड़ी बनाई। 

Karl Benz को आज ही के दिन यानि 29 जनवरी 1886 में पेट्रोल से चलने वाले पहले automobile vehicle का पेटेंट मिला था। 

Karl Benz जर्मन के बहुत ही प्रसिद्ध व्यक्ति थे। उनका जन्म 25 नवम्बर, 1844 को और मृत्यु – 4 अप्रैल, 1929 में 88 वर्ष की उम्र में हुई। उन्होंने अपने जीवनकाल में automobile से related बहुत से आविष्कार किये। कार्ल के पिता की मौत कार्ल के बचपन में ही हो गयी थी। उसके बाद कार्ल की माँ ने उन्हें बहुत ही मेहनत और मशक्कत के साथ पाला -पोषा। उन्होंने अपनी कोशिशों से कार्ल की पढाई को रुकने नहीं दिया और इसे जारी रखा। कार्ल भी पढाई में काफी अच्छे थे। 19 साल की उम्र में कार्ल ने mechanical engineer की डिग्री ले ली थी। उसके बाद उन्होंने कई companies में mechanical engineer और designer के तौर पर काम किया।

Benz ने अपने एक साथी के साथ 1871 में अपनी पहली Iron Foundry and Mechanical Workshop start की। 1872 में उनकी होने वाली पत्नी ने इस company में उनके साथी के share खरीद लिए। पर वो दोनों काफी मेहनत के बाद भी इस company को अच्छी तरह से नहीं चला पा रहे थे। इस बीच Benz ने नए patents पर काम करना शुरू किया।

Karl Benz ने 31 दिसम्बर, 1878 को पेट्रोल से चलने वाले 2 stroke engine का आविष्कार किया और 1879 को इसके लिए patent हासिल किया। Karl Benz ने इसके साथ ही और भी patent हासिल किये जैसे कि:
  • speed regulation system
  • ignition using white power sparks with battery
  • spark plug
  • carburetor
  • clutch
  • gear shift and
  • water radiator.

Karl Benz की company संकट के दौर से गुजर रही थी इसलिए इसको चलाने के लिए उन्होंने banks से loan लेने की कोशिश की। लेकिन उनकी high production cost को देखते हुए banks ने उन्हें loan देने से मना कर दिया और कहा कि अगर आप इसे joint stock company बना सकते हैं तो ही bank आपको loan देगा। bank से loan हासिल करने के लिए benz ने अपनी company को joint stock company में convert कर दिया, जिसमे उनके पास सिर्फ 5% share ही रह गए। अब company में उनके सुझावों पर भी ध्यान देना बंद कर दिया गया तो वो इस corporation से 1883 में अलग हो गए।

1883 में ही benz ने Max Rose and Friedrich Wilhelm Eßlinger के साथ मिलकर industrial machines बनाने के लिए Benz & Company Rheinische Gasmotoren-Fabrik (Benz & Cie ) की स्थापना की। इस company से benz को सफलता मिलनी शुरू हुई। इसे देखते हुए अब benz ने “horseless carriage” बनाने की अपनी पुरानी इच्छा पर काम करना शुरू किया।

Benz ने अपने अथक प्रयासों से 1885 में एक tricycle को engine से चलने वाले automobile में convert कर दिया। इसके लिए उन्होंने खुद का design किया हुआ 4 stroke engine का इस्तेमाल किया। इस vehicle को उन्होंने Benz Patent Motorwagen का नाम दिया। 29 जनवरी, 1986 को benz को इसके लिए DRP-37435: “automobile fueled by gas” के नाम से patent मिला। हालाँकि इसको तक़रीबन 5 महीने बाद सड़क पर दौड़ाया जा सका।

Benz-Patent-Motorwagen
  • 1 जुलाई, 1986 को Benz Patent Motorwagen को आम लोगों के बीच दौड़ाया गया।
  • इसमें 2 लोगों के बैठने की व्यवस्था थी।
  • ये आज की गाड़ियों की तरह एक बंद गाड़ी ना होकर घोड़ागाड़ी की तरह खुली हुई गाड़ी थी।
  • इसमें horizontally mounted single cylinder engine का उपयोग किया गया था।
  • यह एक 0.75 HP का four stroke engine था।
  • इस वाहन की अधिकतम speed 8 mph (13 kmph) थी।
बाद में karl benz ने इस मॉडल में बहुत सारे सुधार किये। Benz Patent Motorwagen, model no 3 पर बैठकर उनकी पत्नी और बच्चे ने तक़रीबन 108 किलोमीटर का सफ़र तय किया। इस दौरान आने वाली तकलीफों जैसे कि ढलान पर गाड़ी का control, चढ़ाई पर दिक्कतें आदि का निदान करके karl benz ने इसका commercial उत्पादन शुरू कर दिया और उनकी ये गाड़ियाँ जर्मन में बहुत जल्दी ही लोकप्रिय होने लगी। इस पूरे सफ़र में उनकी पत्नी Bertha Ringer ने भी उनका हर कदम पर साथ दिया। जिससे कार्ल बेंज की company जर्मन की बहुत बड़ी automobile company बन पाई। इस company ने भी बहुत सारे उतार-चढाव देखें हैं पर फिर भी अपने पैर automobile industry में मजबूती से जमा रखे हैं।

पढ़िए हमारे गणतंत्र दिवस की कुछ खास जानकारीयाँ 

आज के समय की सबसे महंगी गाड़ियों में शुमार Mercedes benz इन्ही की company का product है।

बचपन से ही मुसीबतों और अभावों में जीवन बिताने वाले कार्ल बेंज ने आखिरकार अपने प्रयासों से ना सिर्फ दुनिया को नए आविष्कार दिए बल्कि एक सफल business empire भी खड़ा किया।

उम्मीद है आपको ये जानकारी पसंद आई होगी।

हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/ 
Keywords – karl benz in hindi, first automobile vehicle, karl benz, Benz Patent Motorwagen, karl benz car, karl benz biography in hindi
If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Comments

  1. अापका ब्‍लॉग अपने ब्‍लाग संकलक ब्‍लॉग मेट्रो पर सुसज्जित है। आपसे अनुरोध है कि एक बार पधार कर मागदर्शन करें।

    जो भी ब्‍लॉगर साथी अपने ब्‍लॉग को हमारे ब्‍लॉग संकलक में जोडना चाहता है वो यहॉ क्लिक करें

Leave a Reply