Hindi Kahani – जीवन का सच्चा सुख

Hindi Kahani – जीवन का सच्चा सुख

एक बार एक बहुत ही खूबसूरत गाँव था। उसकी खूबसूरती के चर्चे दूर-दूर तक फैले हुए थे। उस गाँव की खूबसूरती को देखने दूर दूर से यात्री आया करते थे। ऐसे ही एक बार एक यात्री ने जब इस गाँव की खूबसूरती के बारे में सुना तो उसमें गाँव की खूबसूरती देखने की इच्छा जाग उठी और वह अपनी इच्छा पुरी करने के इरादे से गाँव की यात्रा पर निकल गया। जब वह गाँव पहुँचा तो उसने देखा गाँव वाकई में बहुत खूबसूरत है। वहां देखने योग्य बहुत सारी जगहों पर वो घूमा। जितना उसने सुना था, ये गाँव उससे कहीं अधिक उसे खूबसूरत लगा।

गाँव की सभी जगहों पर घूमने के दौरान उसने जब वहां के लोगों को नोटिस किया तो पाया कि ये लोग बाहर से आने वाले लोगों की हर तरह की मदद तो करते हैं, लेकिन सभी लोग पैसों के पीछे पागल हैं। ये लोग अधिक से अधिक पैसे कमाना चाहते हैं। पैसा कमाने के लिए इन लोगों ने दिन-रात एक कर रखा है। गाँव के लोगों को ना तो अपने आराम की चिंता है, न सेहत की और ना ही किसी तरह के मनोरंजन की कोई सुविधा वहां है। बस हर आदमी पैसा कमाने की अंधी दौड़ में भागता जा रहा है। उसने नोटिस किया कुछ लोगों ने तो अधिक पैसा कमाने के चक्कर में अपनी ज़िन्दगी तक दांव पर लगा रखी है।

यह सब देखकर उस यात्री को बड़ा दुःख हुआ। वो सोचने लगा कि किस तरह से ये लोग अपना जीवन पैसों के पीछे बरबाद कर रहे हैं। इन्होने अपने जीवन का पूर्ण आनन्द लेना तो सीखा ही नहीं है। इन्होने तो अपने आप को पैसा कमाने की मशीन बना लिया है। उसने ठान लिया कि वह इनके जीवन में परिवर्तन लेकर आएगा, वह इन्हें जीवन के सही आनन्द से परिचित कराएगा। यह सोचकर उस समय वह यात्री वहां से चला गया।

Hindi Story – आगे जानिए क्या किया यात्री ने गाँव वालों को हँसना सिखाने के लिए

थोड़े दिनों बाद वह यात्री लौटकर वहां वापस आया। इस बार वह बहुत सारे सामान के साथ वहां आया और उसने उस खूबसूरत गाँव में अपने इस सामान की प्रदर्शनी लगवाई। इस प्रदर्शनी में उसने अलग-अलग तरह के आइनों को रखा। उन आइनों के आगे खड़े होने पर बड़ा ही विचित्र प्रतिबिम्ब दिखाई पड़ता था। यात्री ने यह प्रदर्शनी ये सोचकर लगाई कि लोग अपनी ही अजीब तरह के शक्लें देखकर जरूर हँसना सीख जायेंगे और हुआ भी ऐसा ही।

धीरे धीरे गाँव वाले उसकी प्रदर्शनी में आने लगे। वो अलग-अलग आइनों में अपने विचित्र से प्रतिबिम्ब देखते और हंस-हंस के लोटपोट हो जाते। उसकी प्रदर्शनी पूरे गांव में मशहूर हो गई। सभी गाँव वाले वहां उस प्रदर्शनी में आने लगे। बड़ी उत्सुकता से वो लोग हर आईने के आगे खड़े होते और अपने प्रतिबिम्ब देखकर हंसने लगते। कभी वो पतले हो जाते तो कभी मोटे, कहीं लम्बे हो जाते तो कहीं छोटे। यह सब उनके लिए पहला और अनोखा अनुभव था। लेकिन सभी गांववाले इसे बहुत ही enjoy कर रहे थे।

प्रदर्शनी के आखिरी दिन उस यात्री ने एक सभा बुलाई और उसमे सभी गाँव वालों को आने का निमंत्रण दिया। तय समय पर सभी गांववाले वहां पहुँच गए। उस यात्री ने सभी से एक-एक करके प्रदर्शनी से जुड़े अपने अनुभव बताने को कहा। हर व्यक्ति ने एक ही जवाब दिया कि वो अपनी ज़िन्दगी में पहली बार इतना दिल खोलकर हंसा।

तब उस यात्री ने कहा, “दोस्तों मेहनत हमारे जीवन में सफलता पाने का एक महत्वपूर्ण तत्व है और पैसा सिर्फ एक जरूरत है। लेकिन मेहनत के साथ ही हमारी सेहत, आराम और मनोरंजन का भी ज़िन्दगी में बड़ा महत्त्व है। लगातार चलते रहने से आदमी का शरीर टूट जाता है और वो जीवन का सच्चा सुख नहीं ले पाता है। “

Moral – इसलिए दोस्तों आप भी सफलता पाने के लिए मेहनत जरूर करें लेकिन उसके साथ ही अपने शरीर की सेहत, आराम और ज़िन्दगी के आनन्द को भी उतना ही महत्व दें ताकि अपनी सफलता को आप अच्छे से enjoy भी कर सकें।

More Hindi Kahani :

1. तेलानीराम ने पूरी की इच्छा
2. एक काला बिंदु
3. शेर के बाल से पति का इलाज
4. आत्म-विश्वास के बल पर जीती हारी बाज़ी…
5. तेनालीराम के घर में चोर 


हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
keywords – हिंदी कहानी, Moral Hindi Story, Hindi Story, Hindi Kahani, hindi moral story

Hindi Kahani in Roman: Jeevan ka sachcha sukh

ek baar ek bahut hee khoobasurat gaanv tha. usakee khoobasuratee ke charche door-door tak faile hue the. us gaanv kee khoobasuratee ko dekhane door door se yaatree aaya karate the. aise hee ek baar ek yaatree ne jab is gaanv kee khoobasuratee ke baare mein suna to usame gaanv kee khoobasuratee dekhane kee ichchha jaag uthee aur vah apanee ichchha puree karane ke iraade se gaanv kee yaatra par nikal gaya. jab vah gaanv pahuncha to usane dekha gaanv vaakee mein bahut khoobasurat hai. vahaan dekhane yogy bahut saaree jagahon par vo ghooma. jitana usane suna tha, ye gaanv usase kaheen adhik use khoobasurat laga.

gaanv kee sabhee jagahon par ghoomane ke dauraan usane jab vahaan ke logon ko notis kiya to paaya ki ye log baahar se aane vaale logon kee madad to karate hain, lekin sabhee log paison ke peechhe paagal hain. ye log adhik se adhik paise kamaana chaahate hain. paisa kamaane ke lie in logon ne din-raat ek kar rakha hai. gaanv ke logon ko na to apane aaraam kee chinta hai, na sehat kee aur na hee kisee tarah ke manoranjan kee koee suvidha vahaan hai .bas har aadamee paisa kamaane kee andhee daud mein bhaagata ja raha hai. usne notis kiya kuchh logon ne to adhik paisa kamaane ke chakkar mein apanee zindagee tak daanv par laga rakhee hai.

yah sab dekhakar us yaatree ko bada duhkh hua. vo sochane laga ki kis tarah se ye log apana jeevan paison ke peechhe barabaad kar rahe hain. inhone apane jeevan ka poorn aanand lena to seekha hee nahin hai. inhone to apane aap ko paisa kamaane kee masheen bana liya hai. usane thaan liya ki vah inake jeevan mein parivartan lekar aaega, vah inhen jeevan ke sahee aanand se parichit karaega. yah sochakar us samay vah yaatree vahaan se chala gaya.

Hindi Kahani:aage janiye kya kiya yatri ne ganvwalon ko hansna sikhane ke liye

thode dinon baad vah yaatree lautakar vahaan vaapas aaya. is baar vah bahut saare saamaan ke saath vahaan aaya aur usane us khoobasurat gaanv mein apane is saamaan kee pradarshanee lagavaee. is pradarshanee mein usane alag-alag tarah ke aainon ko rakha. un aainon ke aage khade hone par bada hee vichitr pratibimb dikhaee padata tha. yaatree ne yah pradarshanee ye sochakar lagaee ki log apanee hee ajeeb tarah ke shaklen dekhakar jaroor hansana seekh jaayenge aur hua bhee aisa hee.

dheere dheere gaanv vaale usakee pradarshanee mein aane lage. vo alag-alag aainon mein apane vichitr se pratibimb dekhate aur hans-hans ke lotapot ho jaate. usakee pradarshanee poore gaanv mein mashahoor ho gaee. sabhee gaanv vaale vahaan us pradarshanee mein aane lage. badee utsukata se vo log har aaeene ke aage khade hote aur apane pratibimb dekhakar hansane lagate. kabhee vo patale ho jaate to kabhee mote, kaheen lambe ho jaate to kaheen chhote. yah sab unake lie pahala aur anokha anubhav tha. lekin sabhee gaanvavaale ise bahut hee enjoy kar rahe the.

pradarshanee ke aakhiree din us yaatree ne ek sabha bulaee aur usame sabhee gaanv vaalon ko aane ka nimantaran diya. tay samay par sabhee gaanvavaale vahaan pahunch gae. us yaatree ne sabhee se ek se pradarshanee-jude apane kar ek anubhav bataane ko kaha. har vyakti ne ek hee javaab diya ki vo apanee zindagee mein pahalee baar itana dil kholakar hansa.

tab us yaatree ne kaha, “doston mehanat hamaare jeevan mein saphalata paane ka ek mahatvapoorn tatv hai aur paisa sirph ek jaroorat hai. mehanat ke saath hee hamaaree sehat, aaraam aur manoranjan ka bhee zindagee mein bada mahattv hai. lagaataar chalate rahane se aadamee ka shareer toot jaata hai aur vo jeevan ka sachcha sukh nahin le pata hai. “

naitik – isalie doston aap bhee saphalata paane ke lie mehanat jaroor karen lekin usake saath hee apane shareer kee sehat, aaraam aur zindagee ke aanand ko bhee utana hee mahatv den taaki apanee saphalata ko aap achchhe se bhee kar saken maja aata hai.

If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Leave a Reply