Short Hindi Moral Stories – संत ज्ञानेश्वर की शिक्षाप्रद कहानियाँ

Short Hindi Stories with Moral values – संत ज्ञानेश्वर की शिक्षाप्रद कहानियाँ

आज हम आपके लिए लेकर आये हैं 2 Short Hindi Stories with Moral values – संत ज्ञानेश्वर की शिक्षाप्रद कहानियाँ। संत ज्ञानेश्वर की कहानियों से हमें अपने जीवन के लिए बहुत सारी moral values मिलती हैं। और इन moral values को अपने जीवन में अपनाकर हम भी सुखी और सफल जीवन जी सकते हैं।

Short Hindi Stories with Moral values

Short Hindi Stories with Moral values – हिंदी कहानी परमात्मा के अनुदान

एक गांव में संत ज्ञानेश्वर का कथावाचन चल रहा था। अपनी कथा में संत ज्ञानेश्वर समझा रहे थे कि ईश्वर ज्ञान, विवेक, शक्ति और भक्ति हमेशा सत पात्रों को ही देता है। संत के ऐसा कहने पर कथा सुनने आई गांव की ही एक महिला ने कहा मैं आपसे असहमत हूं। वह बोली,” अगर सबकुछ सत पात्रों को ही मिलना है, तो फिर इसमें भगवान की क्या विशेषता रही? उसकी नजरों में तो सब समान होने चाहिए। उसे तो सबको समान अनुदान देना चाहिए।”

संत ने उस समय महिला को कोई जवाब नहीं दिया। कथा समाप्त हो गई। वह महिला और बाकी लोग वहां से चले गए। संत ज्ञानेश्वर ने अगले दिन सुबह ही मोहल्ले के एक मूर्ख व्यक्ति को बुला कर कहा अमुक स्त्री के पास जाकर उस के आभूषण मांग लाओ। वह व्यक्ति वहां से चला गया और स्त्री के पास जाकर उससे उसके आभूषण मांगने लगा।

उस महिला ने उसे आभूषण देने से मना कर दिया और वहां से झीड़क कर भगा दिया। थोड़ी देर बाद संत ज्ञानेश्वर उस महिला के पास पहुंचे और बोले, “आप कुछ समय के लिए अपने आभूषण मुझे दे दे। आवश्यक काम खत्म करके मैं उसे आपको वापस लौटा दूंगा।”

Also read : क्या आप deserving हैं !!!

महिला ने तुरंत ही अपना संदूक खोला और बिना कोई प्रश्न पूछे अपने आभूषण संत को सौंप दिए। उन आभूषणों को हाथ में लेकर संत ने महिला से पूछा, “अभी कुछ देर पहले एक व्यक्ति आपके पास आभूषण लेने आया था। आपने उसे आभूषण देने से मना क्यों कर दिया।”

महिला ने कहा, “मैं उस मूर्ख व्यक्ति को कैसे अपने मूल्यवान आभूषण दे सकती थी।”

संत ज्ञानेश्वर मुस्कुराए और बोले, “जब आप अपने इन सामान्य से आभूषणों को बिना सोचे विचारे किसी कुपात्र को नहीं दे सकती, तो सोचिए फिर परमात्मा अपने अनुदानों को अपात्रों को कैसे सौंप सकता है? ईश्वर तो बारंबार इस बात की परीक्षा करता है कि जिसको अनुदान दिया जा रहा है वह इस का पात्र भी है अथवा नहीं!”

महिला को संत ज्ञानेश्वर की बात समझ में आ गई। उसने उन्हें धन्यवाद कहा। संत ज्ञानेश्वर अपनी शिक्षा देकर वहां से चले गए।


Short Hindi Stories with Moral values – हिंदी कहानी डूबते को बचाया

एक बार संत ज्ञानेश्वर एक नदी के किनारे से जा रहे थे। उन्होंने देखा नदी के किनारे एक महात्मा जप कर रहे थे और उन्हीं के सामने नदी में एक लड़का स्नान कर रहा था। एकाएक उस लड़के का पैर फिसल गया और वह नदी के बहाव के साथ बहने लगा। लड़का सहायता के लिए चिल्लाने लगा। उसकी आवाज सुनकर भी महात्मा अपने जप मे लगे रहे।

लड़के की आवाज सुन महात्मा ने आंखें तो खोली पर वहां से उठे नहीं। आंखें बंद कर फिर से अपने जप में लग गए। संत ज्ञानेश्वर बिना कोई देर किए नदी में कूद पड़े और उस डूबते लड़के को खींचकर बाहर ले आए।

उस लड़के को बाहर निकालकर वह सीधे उस महात्मा के पास पहुंच गए और उनसे पूछा, “आप यहां बैठ कर क्या कर रहे हैं?”

उस महात्मा ने जवाब दिया, “हम ईश्वर का ध्यान कर रहे हैं यहां बैठकर ईश्वर का जप कर रहे हैं।” इतना कहकर महात्मा ने फिर से अपनी आंखें बंद कर ली।

संत का ज्ञान :मोह या आसक्ति रखना उचित नहीं

संत ज्ञानेश्वर ने फिर से पूछा, “इतना जप तप करने के बाद क्या ईश्वर के दर्शन हो गए?”

महात्मा ने उत्तर दिया, “नहीं ईश्वर के दर्शन नहीं हुए। मन ही स्थिर नहीं हो पा रहा है।”

संत ज्ञानेश्वर ने महात्मा को समझाते हुए कहा, “मन स्थिर करने के लिए पहले दीन दुखियों की सेवा करो, उनके कष्टों में हिस्सा बटाओ, जरूरतमंद की मदद करो अन्यथा इस कोरी उपासना का कोई विशेष लाभ नहीं मिलेगा।”

महात्मा को अपनी भूल का अहसास हो गया। उन्हें लग गया कि इस डूबते हुए बच्चे को बचाया जाता तो वही सच्ची उपासना थी। उस दिन से उन्होंने प्रण लिया कि वह अपनी उपासना के साथ-साथ दीन-दुखियों और जरूरतमंदों की सेवा भी करते रहेंगे।

उम्मीद है Short Hindi Stories with Moral values – संत ज्ञानेश्वर की शिक्षाप्रद कहानियाँ, आपको पसंद आई होंगी। अगर आप ये कहानी और इसके द्वारा दिए गए सन्देश पर अपना कोई व्यू देना चाहें या ऐसी ही कोई कहानी हमारे साथ शेयर करना चाहे तो comment section के जरिये हमें जरूर इससे अवगत करायें। हमारी मदद करने के लिए इसे Google+, facebook, twitter और दूसरे social platform पर अपने मित्रों के साथ share जरूर करें।

Moral Hindi Stories:

  1. Stories for children- महान संतों की कहानी
  2. Moral Stories in Hindi Language – ईश्वर की मदद
  3. Short Inspirational Stories for kids: बच्चों के लिए 3 प्रेरक कहानियाँ
  4. Inspirational Moral Stories | क्या आपने ढूँढा नया रास्ता?
  5. Hindi Inspirational Story of Confucius | दीर्घायु होने का राज

हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।
facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
Keywords – Moral stories in Hindi, hindi story, hindi moral stories, hindi short stories, stories in hindi with moral, motivational stories in hindi, Short Hindi Stories with Moral values, हिंदी कहानी।
Get latest updates in your inbox. (It’s Free)

Comments

  1. bahut hi inspiring post hai aap ki, me aap ki post niyamit rup se padta hu
    thank you

  2. nice blog sir aap ka content likhne ka style vakahi me fabulouse hai ! Aap isi tarah post likhate rahe aur humare Jaise newbian bloger ki help karate rahe thank you So much

  3. very inspiring sir. keep posting. apne friends ke sath jarur share krungi

Speak Your Mind

*