Story in Hindi (एक छोटी से अच्छी कहानी) – गधा और मज़ार

Story in Hindi - गधा और मज़ार क्या आप भी इच्छाओं की पूर्ती के लिए कहीं भी माथा टेक देते हैं ? विडम्बना है कि आज समाज में अंधानुकरण व अन्धानुगमन की परंपरा चल पड़ी है। अधिकतर लोग ईश्वर और ईश्वर संबंधित तथ्यों पर आँख मूँद कर विश्वास करते हैं। अपने विवेक या बुद्धि का उपयोग ही नहीं करते हैं। विडम्बना है कि आज समाज में अपनी इच्छाओं की पूर्ती के लिए मानव कहीं भी माथा टेकने को गुरेज नहीं करता है। ऐसी ही एक कहानी जो मैंने कभी अपने पिताजी से सुनी थी आज कहीं पढ़ने को मिल गयी तो सोचा क्यों न इसे अपने blog पर भी post किया जाए। किसी मजार पर एक फ़क़ीर रहत … [Read more...]