Moral stories for children in hindi | बच्चों के लिए 3 शिक्षाप्रद कहानियाँ

Moral stories for children | बच्चों के लिए 3 शिक्षाप्रद कहानियाँ

Moral stories for children, Story No.-1 : Change our vision अपना दृष्टिकोण बदलिये 

एक शहर में बहुत ही धनवान व्यक्ति था, जो अपनी आँखों में गंभीर दर्द से परेशान था। उसने कई चिकित्सकों से अपने रोग के लिए परामर्श किया। कई चिकित्सकों से उसने अपने इस दर्द से निजात पाने के लिए अपना इलाज कराया। इस गंभीर दर्द से छुटकारा पाने के लिए वह व्यक्ति लगातार चिकित्सा विशेषग्यों से इलाज कराता जा रहा था। उसने भारी मात्रा में दवाओं का उपभोग किया और सैकड़ों इंजेक्शन लगवाए। लेकिन दर्द पहले की तुलना में अधिक शक्ति के साथ जारी रहा।

moral stories for children

एक दिन उसे किसी ने एक भिक्षु के बारे में बताया, जो इस तरह के दर्द के इलाज में महारत रखता था। उस अमीर व्यक्ति ने बिना समय गवाएं ही उस भिक्षु को बुला लिया। भिक्षु ने उस व्यक्ति की समस्या को समझा और उससे कहा कि उसे किसी दवा की जरूरत नहीं है। बल्कि उसे तो कुछ समय के लिए केवल हरे रंगों पर ही अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। और अन्य रंगों से अपनी नजर को बचा कर रखना है। यह एक अजीब नुस्खा था लेकिन वह हताश था इसलिए उसने इसे आजमाने का फैसला किया।

करोड़पति ने painters के एक समूह को अपने यहाँ बुलाया। ढेर सारा हरा रंग खरीद लिया और यह निर्देश दिया कि हर वो चीज को हरे रंग से रंग दिया जाये, जिस पर भी मेरी नज़र पड़ सकती है। Painters ने उसके घर की दीवारों से लेकर हर एक सामान को हरे रंग से रंग दिया।

Hindi inspirational Quotes

कुछ दिनों के बाद जब वह भिक्षु उस करोडपति को देखने के लिए आया, तो करोड़पति के कर्मचारियों ने तुरंत हरे रंग की बाल्टी लाकर उस पर उड़ेल दी। ताकि वह भिक्षु अपनी लाल पोशाक में करोडपति के सामने नहीं जा सके और उसका दर्द वापस न आ जाये। उनकी इस हरकत से भिक्षु सारा माज़रा समझ गया और वह उस करोडपति के पास पहुंचा।

उसके पास पहुँच भिक्षु हंसा और बोला, “अगर आपने केवल कुछ रुपयों में हरे चश्मे खरीद लिए होते, तो आप इन दीवारों और सभी वस्तुओं को सुरक्षित रख सकते थे और अपने धन का एक बड़ा हिस्सा भी बचा सकते थे। आप पूरी दुनिया को हरा नहीं कर सकते, लेकिन हरा चश्मा लगाकर पूरी दुनिया को हरा देख सकते हैं।”

आइए हम अपनी दृष्टि बदल दें और दुनिया तदनुसार दिखाई देगी। दुनिया को आकार देने की सोचना मूर्खतापूर्ण है, आइए हम पहले खुद को आकार दें।


Moral stories for children, Story No.-2 : I wanted to change the world मैं दुनिया को बदलना चाहता था

जब मैं एक जवान था तो मैं दुनिया को बदलना चाहता था।

मैंने पाया कि दुनिया को बदलना मुश्किल था, इसलिए मैंने अपने देश को बदलने की कोशिश की।

जब मैंने पाया कि मैं राष्ट्र नहीं बदल सकता, तो मैंने अपने शहर पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया।

मैं शहर भी नहीं बदल सका और फिर एक बुजुर्ग आदमी के रूप में, मैंने अपने परिवार को बदलने की कोशिश की।

अब एक बूढ़े आदमी के रूप में मुझे एहसास होता है, “मैं सिर्फ एक ही चीज बदल सकता हूँ और वो हूँ मैं खुद। अब अचानक मुझे एहसास हुआ कि अगर बहुत पहले मैंने खुद को बदल दिया होता, तो मैं अपने परिवार पर असर डाल सकता था। मेरा परिवार और मैं अपने शहर पर असर डाल सकते थे। उनका प्रभाव राष्ट्र बदल सकता था और मैं वास्तव में दुनिया को बदल सकता था।


Moral stories for children, Story No.-3 : The law of the garbage truck कचरा ट्रक का नियम 

एक दिन मैं टैक्सी में बैठा और हम एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए। मेरा टैक्सी ड्राईवर सही lane में गाड़ी चला रहा था, तभी अचानक एक काली कार सामने के एक पार्किंग स्पेस से हमारी गाड़ी के सामने आ गई। मेरे टैक्सी ड्राइवर ने तुरंत ब्रेक लगाया। इससे गाड़ी स्किड हो गई और हम दूसरी कार से टकराने से सिर्फ इंच से चूक गए।

दूसरी कार के चालक ने अपना सिर गाड़ी से बाहर निकाला और हम पर चिल्लाना शुरू कर दिया। मेरा टैक्सी ड्राइवर बस मुस्कुराया और लड़के का अभिवादन किया। मेरा मतलब है, वह वास्तव में एक दोस्ताना व्यवहार था। मैंने टैक्सी ड्राईवर से पूछा, ‘तुमने ऐसा क्यों किया? इस आदमी ने तुम्हारी कार को लगभग बर्बाद कर दिया था और हमें अस्पताल भेजने का इन्तेजाम कर दिया था!” तब मेरे टैक्सी ड्राइवर ने मुझे जो  सिखाया उसे ही अब मैं कहता हूं, ‘कचरा ट्रक का नियम‘।

Short Inspirational Stories for kids: बच्चों के लिए 3 प्रेरक कहानियाँ

उसने समझाया कि कई लोग कचरा ट्रक की तरह हैं। वे कचरे से भरे हुए, निराशा से भरे हुए, क्रोध से भरे हुए, और हताशा से भरे हुए हैं। जैसे-जैसे उनके कचरे का ढेर बढ़ता जाता है, उन्हें डंप करने के लिए एक जगह की आवश्यकता होती है और कभी-कभी वे इसे आप पर डंप कर सकते हैं। इसे व्यक्तिगत रूप से न लें, केवल मुस्कुराएं, अभिवादन दें, उन्हें अच्छी तरह से शुभकामनाएं दें, और आगे बढ़ें। उनके कचरे को न लें और न ही इसे अपने काम पर, घर पर या सड़कों पर अन्य लोगों तक फैलाएं।


उम्मीद है Moral stories for children in hindi | बच्चों के लिए 3 शिक्षाप्रद कहानियाँ, आपको पसंद आई होंगी। अगर आप इन कहानियों और इनके द्वारा दिए गए सन्देश पर अपना कोई व्यू देना चाहें या ऐसी ही कोई कहानी हमारे साथ शेयर करना चाहे तो comment section के जरिये हमें जरूर इससे अवगत करायें। हमारी मदद करने के लिए इसे Google+, facebook, twitter और दूसरे social platform पर अपने मित्रों के साथ share जरूर करें। 

More Hindi Stories:

  1. Stories for children- महान संतों की कहानी
  2. Moral Stories in Hindi Language – ईश्वर की मदद

हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।
facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
Keywords – Moral stories in Hindi, hindi story, Stories for kids, Stories for children, hindi moral stories, stories in hindi with moral, short motivational stories in hindi, Moral Stories in Hindi Language, Short Inspirational Stories for kids, short hindi stories with moral values, हिंदी कहानी।
Get latest updates in your inbox. (It’s Free)

Comments

  1. Very Nic Post. 3 story mujhe kafi pasand aayi.

Speak Your Mind

*