हिंदी कहानी – भीतरी परख

Hindi Kahani – Bheetri Parakh

एक बार कौओं का एक जोड़ा जंगल में अपना घोसला बनाने के लिए पेड़ की खोज कर रहा था। पेड़ खोजते-खोजते ये जोड़ा जंगल के सबसे ऊँचें पेड़ पर पहुँच गया। पेड़ का मुआयना करने के बाद उन कौओं ने उसी पेड़ पर अपना नया घोसला बनाने का फैसला किया और फिर दोनों घोसला बनाने में जुट गए।

उसी पेड़ के नीचे एक चूहा रहता था। उसने जब कौओं को वहां घोसला बनाते देखा तो उसने कौओं से कहा, “इस पेड़ पर अपना घोसला मत बनाओ, यहाँ घोसला बनाना बिलकुल भी सुरक्षित नहीं है।”

कौओं ने नहीं मानी चूहे की सलाह और दिया उल्टा जवाब

नर कौए ने उस चूहे से कहा, “तुम कैसी बहकी-बहकी बात करते हो। पूरे जंगल में इस ऊँचे पेड़ से ज्यादा सुरक्षित जगह भला कौनसी हो सकती है। “

चूहे ने उसे फिर से समझाते हुए कहा, “भाई! ये पेड़ ऊँचा भले ही है, लेकिन सुरक्षित बिलकुल भी नहीं है, तुम लोग मेरी बात मान लो, नहीं तो बाद में पछताना पड़ सकता है। “

कौए को अब उसकी बात पर गुस्सा आ गया, वो नाराज़ होते हुए बोला, “तुम अपने काम से काम रखो, हमारे काम में अपनी टांग मत अडाओ। हम पूरा दिन जंगलों में ऊपर उड़ते रहते हैं और हमें पूरे जंगल की बहुत अच्छे से जानकारी है। हमें बहुत अच्छे से पता है, कौनसा पेड़ सुरक्षित है और कौनसा नहीं? तुम बिल में रहने वाले छोटे से चूहे हो, तुम्हे पेड़ के बारे में भला क्या जानकारी? जो तुम हमें अपना पाठ पढ़ाने आ गए।

चूहे को सलाह देना पड़ा भारी और उसे सुननी पड़ी कौओं से खरी-खोटी

चूहे को खरा सा जवाब देकर दोनों कौए फिर से घोसला बनाने में लग गए और वो चूहा चुपचाप वहां से चला गया।

कौओं ने बहुत जल्द ही वहाँ अंडे देने के लिए एक बढ़िया से घोसला तैयार कर लिया और फिर दोनों उसमे रहने लगे। कुछ दिनों बाद मादा कौए ने उसमे अंडे दिए। अब कौओं का जोड़ा इन अंडों की देखभाल में लगा रहता। ये जोड़ा बहुत खुश था क्योंकि इन अंडों से बच्चे निकलने का समय अब नज़दीक आता जा रहा था। तभी अचानक एक दिन जंगल में भयानक तूफान आ गया। आंधी इतनी तेज़ थी कि जंगल के पेड़ जोर-जोर से हवा में हिलने लगे। जिस पेड़ पर कौओं ने अपना घोसला बनाकर अंडे दिए थे, वो भी इस तूफ़ान में जोर-जोर से झूलने लगा। ये पेड़ आंधी के थपेड़ों को ज्यादा देर तक सह नहीं पाया और जोरदार आवाज़ के साथ जड़-सहित उखडकर नीचे गिर गया।

पेड़ के नीचे गिरते ही कौओं पर मातम सा छा गया

पेड़ गिरने के साथ ही कौओं का घोसला भी दूर जाकर गिर गया और उसमे से सभी अंडे छिटककर दूर जा गिरे और टूट गए। अपने अंडों को जिनसे अब बच्चे निकलने को ही थे, अपने सामने इस तरह टूटते देख कौए रोने-पीटने लगे। ये सब देखकर चूहे को बड़ा दुःख हुआ।

वह कौओं के पास जाकर बोला, “मैंने आप लोगों से पहले ही कहा था, ये पेड़ ऊँचा जरूर है पर सुरक्षित नहीं है। आप लोगों ने इस पेड़ को केवल बाहर से देखा। आपने इस पेड़ की ऊंचाई देखकर ही इसे सुरक्षित मान लिया। पेड़ की जड़ों की गहराई और उसकी हालत देखना जरूरी ही नहीं समझा।”

कौओं को अब चूहे की बात समझ आ रही थी

चूहे ने आगे कहा, “मैं आप लोगों को मना इसलिए कर रहा था क्योंकि मैंने इस पेड़ को अन्दर से देखा था। इसकी जड़ें सड़कर कमजोर हो चुकी थी। ये पेड़ इस हालत में ही नहीं था कि किसी तूफ़ान को झेल पाता और इसलिए गिर गया। पर उस वक़्त आप लोग तो मेरी बात सुनने को तैयार ही नहीं थे।”

चूहे ने उन्हें समझाया – “हमें चीजों को सिर्फ बाहर से देखकर ही नहीं उन पर विश्वास कर लेना चाहिए, बल्कि कोई भी फैसला लेने से पहले उसको भीतर से भी जांचना और परखना चाहिए। अगर तुमने ऐसा कर लिया होता तो आज तुम्हे ये दिन नहीं देखना पड़ता।”

इस हिंदी कहानी से हमने क्या सीखा?

दोस्तों आपको नहीं लगता हम भी अपने जीवन में यही करते हैं सिर्फ बाहरी चमक देखकर कुछ भी करने का निर्णय ले लेते हैं। किसी भी सफल इन्सान को देखा और निकल पड़े उसकी नक़ल करने। सोच क्या होती है हमारी, फलाना काम करने से ये आदमी सफल हो गया तो मैं भी इसकी नक़ल करके सफल हो जाऊँगा। लेकिन क्या हम पता करने की कोशिश करते हैं कि वो सफलता हासिल करने में उस इन्सान की लगन कितनी थी? कितनी उसने मेहनत की? क्या उसको त्याग करने पड़े? क्या कभी गहराई में जाकर ये सब पता करने की कोशिश की है हमने!

नहीं करते ना! फिर जब हम असफल हो जाते हैं तो रोते-पिटते हैं। कई लोग तो आत्महत्या तक कर बैठते हैं।

ये तो सफलता और असफलता को लेकर इस कहानी का moral था, लेकिन इसके अलावा भी किसी व्यक्ति, वस्तु या परिस्थिति विशेष को लेकर भी इस कहानी से बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

तो क्या सीखा आपने इस कहानी से, comment के माध्यम से जरूर बताएं।

More Hindi Kahani :

1. एक छोटी से अच्छी कहानी – गधा और मज़ार
2. सफलता का रहस्य
3. संत का ज्ञान :मोह या आसक्ति रखना उचित नहीं
4. एक सच्ची Motivational कहानी
5. अकबर बीरबल की कहानी – बच्चों को धैर्य से समझाएं


हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
keywords – हिंदी कहानी, Moral Hindi Story, Hindi Story, Hindi Kahani, hindi moral story

hindi kahani – bheetri parakh

ek baar kauon ka ek joda jangal mein apana ghosala banaane ke lie ped kee khoj kar raha tha. ped khojate-khojate ye joda jangal ke sabase oonchen ped par pahunch gaya. ped ka muaayana karane ke baad un kauon ne usee ped par apana naya ghosala banaane ka phaisala kiya aur phir donon ghosala banaane mein jut gae.

usee ped ke neeche ek chooha rahata tha. usane jab kauon ko vahaan ghosala banaate dekha to usane kauon se kaha, “is ped par apana ghosala mat banao, yahaan ghosala banaana bilakul bhee surakshit nahin hai.”

kauon ne nahin maanee choohe kee salaah aur diya ulta javaab

nar kaue ne us choohe se kaha, “tum kaisee bahakee-bahakee baat karate ho. poore jangal mein is oonche ped se jyaada surakshit jagah bhala kaunasee ho sakatee hai. “

choohe ne use phir se samajhaate hue kaha, “bhaee! ye ped ooncha bhale hee hai, lekin surakshit bilakul bhee nahin hai, tum log meree baat maan lo, nahin to baad mein pachhataana pad sakata hai. “

kaue ko ab usakee baat par gussa aa gaya, vo naaraaz hote hue bola, “tum apane kaam se kaam rakho, hamaare kaam mein apanee taang mat adao. ham poora din jangalon mein oopar udate rahate hain aur hamen poore jangal kee bahut achchhe se jaanakaaree hai. hamen bahut achchhe se pata hai, kaunasa ped surakshit hai aur kaunasa nahin? tum bil mein rahane vaale chhote se choohe ho, tumhe ped ke baare mein bhala kya jaanakaaree? jo tum hamen apana paath padhaane aa gae.

choohe ko salaah dena pada bhari aur use sunane padi kauon se kharee-khotee

choohe ko khara sa javaab dekar donon kaue phir se ghosala banaane mein lag gae aur vo chooha chupachaap vahaan se chala gaya.

kauon ne bahut jald hee vahaan ande dene ke lie ek badhiya se ghosala taiyaar kar liya aur phir donon usame rahane lage. kuchh dinon baad maada kaue ne usame ande die. ab kauon ka joda in andon kee dekhabhaal mein laga rahata. ye joda bahut khush tha kyonki in andon se bachche nikalane ka samay ab nazadeek aata ja raha tha. tabhee achaanak ek din jangal mein bhayaanak toophaan aa gaya. aandhee itanee tez thee ki jangal ke ped jor-jor se hava mein hilane lage. jis ped par kauon ne apana ghosala banaakar ande die the, vo bhee is toofaan mein jor-jor se jhoolane laga. ye ped aandhee ke thapedon ko jyaada der tak sah nahin paaya aur joradaar aavaaz ke saath jad-sahit ukhadakar neeche gir gaya.

ped ke neeche girate hee kauon par maatam sa chha gaya

ped girane ke saath hee kauon ka ghosala bhee door jaakar gir gaya aur usame se sabhee ande chhitakakar door ja gire aur toot gae. apane andon ko jinase ab bachche nikalane ko hee the, apane saamane is tarah tootate dekh kaue rone-peetane lage. ye sab dekhakar choohe ko bada duhkh hua.

vah kauon ke paas jaakar bola, “mainne aap logon se pahale hee kaha tha, ye ped ooncha jaroor hai par surakshit nahin hai. aap logon ne is ped ko keval baahar se dekha. aapane is ped kee oonchaee dekhakar hee ise surakshit maan liya. ped kee jadon kee gaharaee aur usakee haalat dekhana jarooree hee nahin samajha. “

kauon ko ab choohe kee baat samajh aa rahee thee

choohe ne aage kaha, “main aap logon ko mana isalie kar raha tha kyonki mainne is ped ko andar se dekha tha. isakee jaden sadakar kamajor ho chukee thee. ye is haalat mein hee nahin tha ki ye ped kisee toofaan ko jhel paata aur isalie gir gaya. par us vaqt aap log to meree baat sunane ko hee taiyaar nahin the. “

choohe ne unhen samajhaaya – “hamen cheejon ko sirph baahar se dekhakar hee nahin un par vishvaas kar lena chaahie, balki koee bhee phaisala lene se pahale usako bheetar se bhee jaanchana aur parakhana chaahie. agar tumane aisa kar liya hota to aaj tumhe ye din nahin dekhana padata. “

is hindi kahani se hamane kya seekha?

doston aapako nahin lagata ham bhee apane jeevan mein yahee karate hain sirph baaharee chamak dekhakar kuchh bhee karane ka nirnay le lete hain. kisee bhee saphal insaan ko dekha aur nikal pade usakee naqal karane. soch kya hotee hai hamaaree, phalaana kaam karane se ye aadamee saphal ho gaya to main bhee isakee naqal karake saphal ho jaoonga. lekin kya ham pata karane kee koshish karate hain ki vo saphalata haasil karane mein us insaan kee lagan kitanee thee? kitanee usane mehanat kee? kya usako tyaag karane pade? kee kabhee hamane koshish gaharaee mein jaakar ye sab pata karane kee!

nahin karate na! phir jab ham asaphal ho jaate hain to rote-pitate hain. kaee log to aatmahatya tak kar baithate hain.

ye to saphalata aur asaphalata ko lekar is kahani ka tha naitik , lekin isake alaava bhee kisee vyakti , vastu ya paristhiti vishesh ko lekar bhee is kahani se bahut kuchh seekha ja sakata hai .

to kya seekha aapane is kahani se , comment ke maadhyam se jaroor bataen.

If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Comments

  1. बहुत सुंदर और शिक्षाप्रद कहानी। काश कौए चूहों की बात मान लेते। यह कहानी हमें बताती हैै कि हमें कभी कभी दूसरों की बातों पर ठंडे दिमाग से विचार करना चाहिए और उन्‍हें मान भी लेना चाहिए। अक्‍सर लोग अपने से ज्‍यादा बुद्धिमान लोगों की बातों को अनसुना कर देते हैं और फिर बाद में पछताते हैं। बहुत सुंदर कहानी मुझे बहुत पसंद आई।

    • शुक्रिया जमशेद जी, blog visit करने और इस कहानी से एक और moral निकाल लेने के लिए।

Leave a Reply