आपकी सफलता में बाधक कौन है!!!

सफलता में बाधक :

एक दिन एक बड़ी company के employees रोजाना की ही तरह अपने office पहुंचे तो main gate पर एक बड़ा सा board लटका हुआ पाया। इस board पर लिखा हुआ था –

“कल रात उस व्यक्ति की मौत हो गई, जो इस company में आपकी growth में रुकावट पैदा कर रहा था और आपकी सफलता में बाधक बना हुआ था। हम आपको उसके funeral में invite करते हैं। आप कृपया gym room में तुरंत पहुँच जाएँ।”

सभी employees को अपने एक साथी की मौत का दुःख हुआ। लेकिन साथ ही ये जानने की उत्सुकता भी बढ़ गई कि आखिर वो कौनसा व्यक्ति था, जिसने अभी तक company में हमारी growth को रोक रखा था तथा हमारी और company की सफलता में बाधक बना हुआ था।

सभी employees gym room की तरफ बढ़ गए। employees की ज्यादा भीड़ को देखते हुए वहां पहले से ही security के भी इंतजाम किये गए थे, जिससे room में भीड़ को नियंत्रित किया जा सके। जैसे-जैसे वहां employees की भीड़ बढती जा रही थी, लोगों में उत्सुकता भी बढती जा रही थी।

gym room में पहुँचने के बाद सभी ने देखा कि वहां बीच में एक ताबूत रखा गया है। उसे देख सभी लोग यही सोच रहे थे, “आखिर वह व्यक्ति कौन है जो अभी तक हमारी सफलता में बाधक बना हुआ था।”

एक एक करके सभी को ताबूत की तरफ आने को कहा गया। employees उस व्यक्ति को देखने के लिए ताबूत की तरफ जाने लगे।

employee जब ताबूत के पास पहुंचकर उसके अन्दर देखता तो हैरान रह जाता। उनके मुँह से कोई शब्द नहीं निकल पा रहे थे।

सभी employees का यही हाल था। वो एक एक करके ताबूत तक गए, अन्दर देखा और आश्चर्यचकित होकर वापस लौट आए। उन्हें देख ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी ने उनकी आत्मा को अन्दर तक झिंझोड़ दिया है।

हकीकत में ताबूत के अन्दर कोई व्यक्ति नहीं था बल्कि वहां एक mirror लगाया गया था, जिससे जो भी ताबूत के अन्दर देखे वो वहां खुद को ही देख सके।

वहां mirror के पास एक signboard भी रखा गया था, जिस पर लिखा था –

“सिर्फ एक ही व्यक्ति है जो आपकी growth की limits set करने की योग्यता रखता है और वह व्यक्ति कोई और नहीं बल्कि सिर्फ आप हैं”

इसलिए दोस्तों आप भी हमेशा ध्यान रखें –

  • केवल आप ही एक व्यक्ति है जो अपने जीवन में क्रांतिकारी बदलाव कर सकते हैं।
  • केवल आप ही एक व्यक्ति है जो अपनी खुशी, अपने बोध और अपनी सफलता को प्रभावित कर सकते हैं।
  • केवल आप ही एक व्यक्ति है जो अपने आप की मदद कर सकते हैं।

अगर आप सोचते हैं दुनिया बदलेगी तो आपका जीवन बदलेगा तो ध्यान रखिये आपका जीवन तब नहीं बदलता:

  • जब आपका boss change हो जाये
  • जब आपके मित्रों में बदलाव आ जाये
  • जब आपके माता पिता में परिवर्तन आ जाये
  • जब आपके पति या पत्नी में change आ जाये
  • जब आपकी कंपनी change हो जाए
  • जब आपकी location change हो जाये

बल्कि आपका जीवन तब बदलता है जब आप में परिवर्तन आता है। ये बदलता है जब आप अपनी सीमित मान्यताओं से परे जाते हैं। जब आप ये महसूस कर लेते हैं कि अपने जीवन के लिए सिर्फ आप ही जिम्मेदार हैं।

दोस्तों हमेशा ध्यान रखे :

“अपने आप की जांच करें, अपने आप को अच्छे से देखें।
अपने आप को दूसरों के सामने अच्छी तरह से संभालें।”

“कठिनाइयों, असंभव और नुकसान से डरें नहीं।
एक विजेता बनें, अपने आप को और अपनी वास्तविकता का निर्माण करें।”

“सबसे महत्वपूर्ण रिश्ता, जो आप के पास हो सकता है।
और वो रिश्ता कोई और नहीं बल्कि आपका अपने साथ है।”

“यह महत्वपूर्ण नहीं है कि हमारे साथ क्या घटित हुआ।
हमने स्थिति को कैसे handle किया यही सारा difference पैदा करता है।”


More Hindi Stories:

  1. अकबर बीरबल की कहानी – बच्चों को धैर्य से समझाएं
  2. शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग
  3. कछुआ और खरगोश – team work
  4. सुखी और सफल गृहस्थी का राज
  5. गुस्सा आने पर हम चिल्लाते क्यों है?

हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

facebook page like करने के लिए यहाँ click करें –https://www.facebook.com/hindierablog/
keywords – हिंदी कहानी, Moral Hindi Story, Hindi Story, Hindi Kahani, hindi moral story, सफलता में बाधक
If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Comments

  1. बहुत ही बेहतरीन मोटीवेशनल लेख की प्रस्‍तुति। मेरी सफलता में शायद मैं खुद ही बाधक हूं। इसलिए सारी बाधाओं को दूर निकाल करके बाहर का रास्‍ता दिखा दूंगा। बहुत खूब। अच्‍छा मोटीवेशन किया आपने मेरा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: