गूंगी चीख – The Silent Scream……….

आज एक Article पढ़ने को मिला   …… The Silent Scream

जब internet पर इसके बारे में search किया तो किसी ने इसके बारे में अच्छा कहा तो किसी ने mislead करने वाला बताया। ये article ऐसे topic पर है जिसके बारे में कोई doctor ही तस्दीक कर सकता है। लेकिन इसे क्योंकि अच्छी नियत से लिखा और बनाया गया है, इसलिए मैंने सोचा इसे अपने blog पर भी post किया जाये। इस article को मुझे भेजने वाले ने भी यही कहा कि मैं इस article को और लोगों के साथ share करू और मैं आप से भी यही कहूँगा कि आप भी इस article को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाए।

The Silent Scream:

गर्भपात (Abortion) करवाना गलत माना गया है, कृपया इस लेख को अवश्य पढ़ें और अगर इसे पढ़ कर आपके दिल की धड़कन बढ़ जाये तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ share अवश्य करें।

गर्भस्थ बच्ची की हत्या का आँखों देखा विवरण :

अमेरिका में सन 1984 में एक सम्मलेन हुआ था – ‘National Right to Life Convention’. इस सम्मलेन के एक प्रतिनिधि ने Dr. Bernard Nathanson के द्वारा गर्भपात की बनायीं गयी एक ultrasound film ‘Silent Scream’ का जो विवरण दिया था, वह इस प्रकार है – गर्भ की वो मासूम बच्ची अभी दस सप्ताह की थी व काफ़ी चुस्त थी। हम उसे अपनी माँ की कोख में खेलते, करवट बदलते व अंगूठा चूसते हुए देख रहे थे। उसके दिल की धडकनों को भी हम देख पा रहे थे और वह उस समय 120 की साधारण गति से धड़क रहा था। सबकुछ बिलकुल सामान्य था, किन्तु जैसे ही पहले औजार (Suction Pipe) ने गर्भाशय की दीवार को छुआ, वह मासूम बच्ची डर से एकदम घूमकर सिकुड़ गयी और उसके दिल की धड़कन काफ़ी बढ़ गयी। हालाँकि अभी तक किसी औजार ने बच्ची को छुआ तक भी नहीं था, लेकिन उसे अनुभव हो गया था कि कोई चीज उसके आरामगाह, उसके सुरक्षित क्षेत्र पर हमला करने का प्रयत्न कर रही है। हम दहशत से भरे ये देख रहे थे कि किस तरह वह औजार उस नन्ही-मुन्नी मासूम गुडिया सी बच्ची के टुकड़े-टुकड़े कर रहा थे। पहले कमर, फिर पैर आदि के टुकड़े ऐसे काटे जा रहे थे जैसे वह जीवित प्राणी न होकर कोई गाजर–मूली हो और वह बच्ची दर्द से छटपटाती हुई, सिकुड़कर घूम-घूम कर तड़पती हुई इस हत्यारे औजार से बचने का प्रयत्न कर रही थी। वह इतनी बुरी तरह से डर गई थी कि एक समय उसके दिल की धड़कन 200 तक पहुँच गयी। मैंने स्वंय अपनी आँखों से उसको अपना सिर पीछे झटकते व मुँह खोलकर चीखने का प्रयत्न करते हुए देखा, जिसे Dr. Bernard Nathanson ने उचित ही ‘The Silent Scream – गूंगी चीख या मूक पुकार’ कहा है। अंत मैं हमने वह न्रशंस वीभत्स दृश्य भी देखा, जब संदंश (forceps – चिमटा) उसकी खोपड़ी को तोड़ने के लिए तलाश कर रही थी और फिर दबाकर उस कठोर खोपड़ी को तोड़ रही थी, क्योंकि सिर का वह भाग बगैर तोड़े suction tube के माध्यम से बाहर नहीं निकाला जा सकता।

हत्या के इस वीभत्स खेल को सम्पन्न करने में करीब 15 minutes का समय लगा और इसके दर्दनाक दृश्य का अनुमान इससे अधिक और कैसे लगाया जा सकता है कि जिस Doctor ने ये गर्भपात किया था और जिसने मात्र कोतुहलवश इसकी film बनवा ली थी, उसने जब स्वंय इस film को देखा तो वह अपनी clinic छोड़कर चला गया और फिर वापस नहीं आया .

आपका एक share किसी अजन्मी बच्ची की जान बचा सकता है।

Forward to all.

Thanks.

ये article किसने लिखा है और कब लिखा है, इसकी जानकारी मुझे नहीं है पर चूँकि यह नेक नियत से लिखा गया article है, इसलिए आप इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाये। शायद इससे किसी अजन्मी बच्ची की जान बच जाये।

अगर आप The Silent Scream video देखना चाहें तो नीचे दिए गए link पर click करें :

http://www.silentscream.org/


हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।
facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
Keywords – Abortion, article, Dr. Bernard Nathanson, National Right to Life Convention, save girl child, The silent scream, ultrasound film, गर्भपात, बच्ची
If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Comments

  1. Anonymous says:

    एक खौफनाक विवरण…

Leave a Reply