स्वस्थ रहने के लिए कुछ natural दवाएं

Health tips in hindi:

 

कुछ समय पहले मैंने health related एक seminar attend किया, जिसमें महाराष्ट्र से आईं नाड़ी वैद्य श्री मति शोभना जी ने व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कैसे हम अपने kitchen और आस-पास के पेड़-पौधों से अलग-अलग तरह की दवाईयां बनाकर विभिन्न तरह के रोगों का ईलाज़ कर सकते हैं। श्री मति शोभना जी charitable trust भी चलाती हैं। वो लोगों को विभिन्न तरह के घरेलु नुस्खे बताती हैं, जिससे natural तरीके से रोगों का ईलाज़ घर में ही किया जा सकता है। इन नुस्खों को कोई भी आजमा सकता है क्योंकि ये natural हैं और इनका कोई side effect नहीं है। Seminar में जब भी कोई मरीज़ उनके पास जाता तो वो उससे कुछ भी नहीं पूछती, सिर्फ मरीज़ की कलाई की नस के एहसास से ही उसके रोगों के बारे में बता देती। मैं भी उनके पास गया और बिना कुछ मुझसे पूछे ही उन्होंने मेरी तकलीफ के बारे में बता दिया, उस तकलीफ का कारण भी बताया और तकलीफ दूर करने का एक घरेलु नुस्खा सुझा दिया। वैसे ये दवाइयाँ उनके पास भी तैयार मिलती हैं, जो की बहुत ही reasonable दामों पर उनसे ली जा सकती है अन्यथा आप घर पर भी बना सकते हैं। उस seminar में उन्होंने बहुत सारे नुस्खे बताएं, उनमे से कुछ नुस्खे मैं यहाँ आपके साथ share कर रहा हूँ :

1.  नींद की दवा :

6 छोटे गोल बैंगन (जो कि बिल्कुल गहरे बैंगनी रंग के होने चाहिए) एक साथ भून के (जैसे भरते के लिए भूनते हैं)  ऊपर का छिलका निकाल दीजिये। जब ये ठंडा हो जाये तो इसमें 2 चम्मच शुद्ध शहद (डाबर, पतंजलि शहद उनके हिसाब से शुद्ध नहीं है) मिलाकर अच्छी तरह से मिला लें। अब इसके 6 हिस्से करके सुबह-शाम 3 दिन तक सेवन करें।

2.  दिमाग बढ़ाने की दवा :

  • बड़ी सौंफ (जीरे जैसे आकार वाली) – 50 gm
  • बादाम (अच्छी quality के, उन्होंने जो brand बताये वो आज 1800-2000 रूपये kg में मिलते हैं) – 50 gm
  • मिश्री (अच्छी quality की transparent या पत्थर वाली ) – 50 gm

तीनों को अलग-अलग पीसकर महीन कर लें। फिर तीनों को आपस में अच्छी तरह मिलाकर फिर से पीस लें। बड़े 2 चम्मच और बच्चे 1 चम्मच, एक cup दूध के साथ सुबह-शाम लें।

3. जोड़ों में दर्द के लिए दवा :

१) drum stick के पेड़ की छाल के छोटे-छोटे टुकड़े करके सुखा लें। फिर इन टुकड़ों को दर्द वाली जगह पर गर्म कपडे की मदद से बांध दें। 15 -15 minute से इसे बदलते रहें और 7 दिन तक करें, दर्द जड़ से खत्म हो जायेगा।

२) बरगद के पेड़ के पत्तों को तोड़कर सूजन के चारों तरफ कपडे से बांध दे। 30–30 minute से इसे बदलते रहें और ऐसा 3 दिन तक करें।

4. बेचैनी / tension दूर करने के लिए :

Bucket में गर्म पानी (जितना गर्म सहन किया जा सके) डालकर पानी में दोनों पैर रखकर तलवे आपस में रगड़े। नारियल का तेल सर पर डालकर उँगलियों की पोरों से सर का मसाज़ करें। बैचेनी दूर हो जाएगी।

5. खांसी की दवा :

शक्कर में 5 बूंद नीलगिरी डालकर सुबह शाम सेवन करने से खांसी ठीक हो जाती है। खांसी में सुबह-शाम चाय जितना गर्म पानी भी पीना चाहिए।

6. Acidity, gases के लिए दवा :
  •     अदरक का रस – एक चम्मच
  •     पुदीना का रस – एक चम्मच
  •     नींबू का रस – एक चम्मच
  •     काला नमक –आधा चम्मच
  •     हींग (खड़ा हींग गैस पर थोडा भूनकर पाउडर बना लें) – आधा चम्मच

सब को अच्छी तरह से मिलाकर दवा बना लें और खाने के बाद थोड़े गर्म पानी के साथ इस दवा को लें। बहुत आराम मिलेगा।एक और बात जो मैं बहुत अच्छे से सुन नहीं पाया पर शायद उन्होंने कहा था कि natural दवाओं को glass के अलावा किसी भी दूसरे metal के बर्तन में नहीं रखना चाहिए।

उम्मीद हे इन घरेलु नुस्खों को आजमा कर आप भी लाभान्वित हो सकेंगे।


हमारा कोई article पसंद आने पर अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।
facebook page like करने के लिए यहाँ click करें – https://www.facebook.com/hindierablog/
Keywords – health tips in Hindi, natural medicine, नाड़ी वैद्य, health tips
If you enjoyed this article, Get email updates (It’s Free)

Comments

  1. Anonymous says:

    bahut sari bimariyo ka ilaz hamare kitchen me hi available hota hai..par jankari ke abhav me ham turant doctor ke paas chale jate hain.

  2. Niranjan Singh says:

    Natural treatment is best treatment.

  3. bahut hi achchi jankari di aadil ji apne…

Leave a Reply