Hindi Moral Story – ईश्वर की मदद

Moral Stories in Hindi Language – ईश्वर की मदद : एक गाँव में माधव नाम का एक किसान रहता था। वह ईश्वर का सच्चा भक्त था। उसके दिन का अधिकतर समय पूजा-पाठ और प्रभु की स्तुति में ही बीतता। इसलिए उसे इस बात का बहुत विश्वास था कि भगवान विपरीत से विपरीत हालातों में भी उसकी […]

Hindi Story- विवेकहीन नक़ल, नहीं कराएगी सफल

Hindi Story– विवेकहीन नक़ल, नहीं कराएगी सफल ये बहुत पुरानी बात है। एक नगर में मणिचन्द नामक बहुत अमीर सेठ रहता था। यह अमीर सेठ खानदानी रईस और बहुत नेक व्यक्ति था। लोगों की सहायता करने में हमेशा आगे रहता था। एक वर्ष उसे व्यापार में बहुत घाटा हुआ और वो निर्धन हो गया। अब […]

राजा भीमसेन और कर्मफल

short hindi story karmfal कर्मफल: बहुत समय पहले की बात है। भीमसेन नामक एक राजा अपने राज्य में सुख से राज किया करते थे। वे एक पुरुषार्थी और चक्रवर्ती सम्राट थे।मगर उनके राज ज्योतिष ने धीरे धीरे उनकी मति ज्योतिष की तरफ पूरी तरह से मोड़ दी थी। अतः वे मुहूर्त जाने बिना कोई भी […]

हिंदी कहानी – बादशाह अकबर और उसकी एकाग्रता :

short hindi story akber ki kahani सच्ची एकाग्रता : एक बार बादशाह अकबर अपनी प्रजा का हाल जानने के लिए अपने राज्य में घूमने निकले। उस समय उनके साथ चार-पांच दरबारी ही थे। घुमते घुमते बादशाह अकबर एक गाँव के निकट पहुंचे, तभी उनकी नमाज का समय हो गया। उन्होंने अपने दरबारियों को कोई साफ […]

हिंदी कहानी – भीतरी परख

Hindi Kahani – Bheetri Parakh एक बार कौओं का एक जोड़ा जंगल में अपना घोसला बनाने के लिए पेड़ की खोज कर रहा था। पेड़ खोजते-खोजते ये जोड़ा जंगल के सबसे ऊँचें पेड़ पर पहुँच गया। पेड़ का मुआयना करने के बाद उन कौओं ने उसी पेड़ पर अपना नया घोसला बनाने का फैसला किया […]

Moral Hindi Story – Four Apple

Moral Hindi Story – Teacher ने पूछा question Moral Hindi Story – एक बार first class की mathematics की teacher अपनी class में बच्चों से question पूछ रही थीं। उन्होंने अपनी class के सबसे intelligent बच्चे सुनिल को खड़ा किया और उससे गणित का एक question पूछा सुनिल अगर मैं तुम्हे एक apple दूँ, फिर एक […]

Moral Hindi Story- बुद्धिमान और निपुण कौन:

Moral Hindi Story – गुरूजी की बुद्धि परीक्षा Moral Hindi Story – नगर से बाहर एक आश्रम में पण्डित सुर्यपति अपने शिष्यों को शिक्षा प्रदान करते थे। उनसे पढने के लिए दूर-दूर से विध्यार्थी आया करते थे। पण्डित सुर्यपति अपने समय के बहुत प्रख्यात विद्वान् हुआ करते थे, उनसे पढने बड़े-बड़े राजा-महाराजाओं के बच्चे आया […]